2 अप्रैल भारत बंद में आरोपी बनाये गए निर्दोष लोगो प्रकारण बापिस नहीं होते तो सात लाख लोग देंगे गिरफ्तारी।

अनुसूचित जाति जनजाति पिछड़ा वर्ग संयुक्त टास्क फोर्स द्वारा 2 अप्रैल के बाद दलित समाज पर हो रही घटनाओं के संबंध में प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया दो अप्रैल को हुए भारत बंद के दौरान देश भर में गिरफ़्तार किए गए बच्चों के परिजनों दलित संघठनो का कहना है कि दलित होने की वजह से पुलिस ने उन्हें गिरफ़्तार किया पूरे

भारत में तमाम दलित संगठनों ने भारत बंद का ऐलान किया था. भारत बंद के दौरान विभिन्न राज्यों में हिंसा देखने को मिली, जिसमें उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश भी शामिल हैं. नाबालिग बच्चों पर भी आपराधिक षड्यंत्र और हत्या के प्रयास जैसे मामले दर्ज किए जाने पर अनुसुचित जाती जनजाति पिछड़ा वर्ग युवा संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजु बीछोले कहते हैं, ग्वालियर नगर की आबादी 1000000 है इसके बाद पुलिस प्रशासन द्वारा 500006 लोगों को आरोपी बनाया गया है किसी नगर की आधे से ज्यादा आबादी आरोपी हो सकती है क्या पुलिस द्वारा शासन प्रशासन के दबाव में असंवैधानिक तरीके से दलित समाज के युवाओं पर कार्यवाही की जा रही है जो की पूरी तरह नींदनिय है

सयुक्त संघ की अध्यछ रजनीकल्याणी ने बताया 20 मार्च को अनुसूचित जाति जनजाति अत्यचार निकरण अधिनियम 1989 को आधार हीन कर दिया गया ,जिसके विरुद्ध में 2 अप्रैल 2018 को भरतबन्द का आवाहन किया गया था , इस आन्दोलन में मप्र के ग्वालियर -चंबल अंचल के हिस्सों मे 6 लोगों की मृत्यु ,मुरैना के 100 से अधिक दलित युवा जेलो में आज भी बंद उनकी जमानत तक नही हो पा रही है जबकि उनका कोई आपराधिक रिकार्ड नही है , 8-9 सौ लोगो के विरुद्ध रेलवे एक्ट जैसी धाराओ में अपराध पँजिवृद्व है ,मुरैना में शिक्षक, छात्राओं को डकैत 307 जैसी संगीन धाराओ में आरोपी बनाया ,घटना स्थल पर गैर मेहजुदगी वकील और 20 वर्ष पहले मृतक व्यक्ति को भी आरोपी बनाया गया है,

sc st obc संगठन के लोगो ने आक्रोश जताते हुए शासन प्रशासन तक इस प्रकरण को मीडिया के सामने रखा और संदेश भी पहुचाया ,यदि शासन और प्रशासन जल्द ही जेल मे बंद लोगो को रिहा नही करती है ,व 6 लोगो के हुए मौत में पीड़ित परिवार को मुआवजा ,परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी नही देती है तो बहुत जल्द ही एक ठोस कदम उठाया जाएगा

युवा संगठन के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष भाई जीतेन्द्र सिंह जाटव ने कहा कि अगर 1 माह के अंदर इन फर्जी प्रकरण को वापस नहीं लिया जाता है तो युवा संगठन के साथी पूरे मध्यप्रदेश में लोगों को इकट्ठा कर सामूहिक तौर पर भोपाल में आकर गिरफ्तारी देने का काम कराएंगे इतनी बड़ी संख्या में लोगों के ऊपर प्रकरण दर्ज किए गए हैं जिनको जेल में रखने की व्यवस्था शासन प्रशासन के पास नहीं है इस प्रेस वार्ता में उपस्थित रहे ऑल इंडिया दलित महिला अधिकार मंच की गयत्री सोनकर ने कहा की आज लगातार दलित महिलओ पर अत्याचर बढ़ रहा है ,योगेंद्र कुशवाहा पिछड़ा वर्ग युवा संघ ,रामु टेकाम आदिवासी नेता, गौतम जाधव , प्रदीप नागर, विनोद समुद्रे

Categories: uncategorized

Comments are closed