हैडलाइन

गरीब लोगो , छात्रों , वृद्धा पेंशन बचत खाता धार को के लिए बुरी खबर ।

गरीब लोगो छात्रों वृद्धा पेंशन बचत खाता धार को के लिए बुरी खबर बचत खाते में 2000 रु से कम बैलेंस रख रहे लोगो के 86 रु कट रहे हे हर माह खातों से  ।

केंद्र सरकार ने नया नियम बनाया है जिसके तहत शासकीय बैंकों में बचत खातों में अब 2000 रु से कम अगर कोई बैलेंस रखता है तो उनके खातों से 85 रुपय मासिक चार्ज लिया जाएगा ।
ऐसे देखने मिला एक दिन में अपने पर्सनल काम से स्टेट बैंक की शाखा गया वहां पर मैंने देखा कुछ वृद्ध माताएं रो रही थी मुझे देखकर बड़ा दुख हुआ मैंने उनसे जानना चाहा क्या हुआ आपके साथ उन्होंने मुझे बताया कि बेटा हमें 300 रुपय प्रतिमह वृद्धा पेंशन मिलती है पर हर माह 85 रूपेय पेंशन खाते से कट रही है मुझे यह जानकर आश्चर्य हुआ ऐसा कैसे हो रहा है।

मैंने बैंक मैनेजर से जानना चाहा कि ऐसा कैसे हो रहा है कि इन गरीब लोगों को मिलने वाली वृद्धा पेंशन में से 85 रू हर महीने किस बात के कट रहे हैं मुझे जानकारी दी गई की सरकार द्वारा नए नियम बनाए गए हैं जिसमें अब बचत खाते में कोई व्यक्ति 2000 रु से कम पैसे रखता है तो उस को 85 रू प्रतिमाह सर्विस प्लांटी के तौर पर लगेगी मैंने बैंक मैनेजर से कहा किन गरीबों को को 300 रू पेंशन मिलती है ये गरीब लोग 2000रु कैसे अपने खाते में रख सकते हैं और ऐसे छात्र जो विद्यालयों महाविद्यालयों में पढ़ते हैं वे लोग 2000रु अपने बचत खाते में बैलेंस कहा से रख सकते हैं उनका क्या होगा।

सरकार को नियम बनाने से पहले गरीब लोगों के विषय में भी सोचना चाहिए था कहीं ना कहीं सरकार नियम तो बनाती है पर उसके परिणामों के बारे में गंभीरता से विचार नहीं करती है।

एक ताजा उदाहरण आप देख सकते हैं देश में जीएसटी लागू कर दी गई है पर चार्टर्ड अकाउंटेंट का जो सिलेबस है उसके बारे में सरकार ने नहीं सोचा कि इसलिए आज पुरानई कर प्रणाली बच्चों को पढ़ाई जा रही हे सरकार का मानना है कि जीएसटी का सिलेबस लाने में 1 वर्ष का समय लग जाएगा 1 वर्ष तक बच्चे पुराना सिलेबस ही पड़ेंगे ।
सरकार पूर्ण बहुमत में है कानून बनाएं लेकिन उसका जनता पर हो रहे प्रभाव को भी गौर करें आपके गलत नियम से कई गरीब लोगों की जिंदगी तबाह हो जाती है कई गरीब लोगों की आंखों में आंसू रह जाते हैं।

जितेंद्र सिंह जाटव
चीफ एडिटर जय भारत न्यूज़

Categories: uncategorized

Leave A Reply

Your email address will not be published.