DIAL 100 से किया युवती का अपहरण, पुलिस पार्टी को बंधक बनाया

पन्ना। अमानगंज के बमुरहा गांव में हथियारबंद पांच बदमाशों ने फिल्मी स्टाइल में डायल 100 के पुलिसकर्मियों को बंधक बनाकर एक युवती का अपहरण कर लिया। घटना शनिवार की रात 12 बजे की है। बदमाशों में से एक ने राजू नाम बताकर 100 नंबर पर फोन किया और बताया कि एक युवक सड़क पर बेहोशी की हालत में पड़ा है। डायल 100 के पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचकर सड़क पर पड़े युवक को जब उठाने लगे तो उसने पुलिसकर्मियों पर कट्टा अड़ा दिया।

इसके बाद चार और हथियारबंद बदमाश पहुंचे और ड्राइवर समेत तीनों पुलिसकर्मियों की वर्दी उतरवा ली। बदमाशों ने वर्दी पहनकर पुलिसकर्मियों को बंधक बना लिया। इसके बाद डायल 100 से पास के ही एक गांव में पहुंचे। वहां से एक युवती और उसके पिता व भाई का अपहरण कर लाए। कुछ दूर आने के बाद डायल 100 को छोड़कर दूसरे वाहन से युवती को लेकर भाग निकले।

डायल 100 में पदस्थ प्रधान आरक्षक प्रकाश मंडल ने बताया कि राजू नाम के युवक ने 100 नंबर पर फोन किया था। उसने बताया कि टांई मोड पर कोई युवक बेहोशी की हालत में पड़ा है। इस पर वे एसएएफ जवान सुभाष दुबे और ड्राइवर शराफत खान के साथ मौके पर पहुंचे। वहां जब तीनों युवक को सीधा करने का प्रयास किया तो उसने कट्टा अड़ा दिया।

वर्दी उतारी, आंखों पर पट्टी बांधकर ले गए

पुलिस दल कुद समझ पाता इसके पहले ही उस युवक के चार अन्य साथियों ने भी पुलिसकर्मियांे को घेर लिया। बदमाशों ने तीनों की वर्दी उतरवाकर उनके हाथ बांध दिए। आंखों पर पट्टी बांधकर कुछ दूर ले गए और दूसरे वाहन में डाल दिया। बदमाशों ने डायल 100 लेकर पास के गांव पहुंचे और वहां से 18 वर्षीय युवती, उसके भाई और पिता को मारपीट करकर ले आए। यहां पर बदमाशों ने डायल 100 और युवती के भाई व पिता को छोड़ दिया। पुलिसकर्मियों को दूसरे वाहन से उतारकर उसमें युवती को लेकर फरार हो गए।

एक बदमाश की हुई पहचान

इस सनसनीखेज वारदात की सूचना मिलते ही डीआईजी अनिल महेश्वरी और एसपी रियाज इकबाल मौके पर पहुंच गए। आसपास के थानों की पुलिस बल को बुलाया गया। अभी तक बदमाश और युवती का पता नहीं चल सका है। हालांकि पुलिस ने एक बदमाश की पहचान देवराज सिंह निवासी हिनौता के रूप्में की है।
वर्तमान में पन्ना पुलिस की कार्य प्राणली पर भी प्रश्न चिंनह ल उठी बी रहे हे सीनियर अधिकारीयो का धयान अपराध की तरफ काम रेत की तरफ जायदा रहता हे

Categories: अन्याय अत्याचार

Comments are closed