MP PATWARI BHARTI 2017: फिलहाल टल सकती हे।

भोपाल। प्रदेश में होने वाली 9500 पटवारियों की भर्ती परीक्षा करीब छह महीने टल सकती है। दरअसल, राजस्व विभाग पटवारी भर्ती नियमों में संशोधन कर रहा है। इसके बाद ही भर्ती परीक्षा आयोजित होगी। पटवारियों की कमी के चलते राजस्व संबंधी काम प्रभावित हो रहा है। पटवारियों की पात्रता परीक्षा के बाद उन्हें दी जाने वाली ट्रेनिंग कोर्स में भी बदलाव हो रहा है। ट्रेनिंग मॉड्यूल पुराना हो चुका है, जबकि समय के साथ नई टेक्नोलॉजी भी आई है।
नई टेक्नोलॉजी को भी ट्रेनिंग कोर्स में जोड़ा जाएगा। साथ ही अब पटवारियों को स्टेट कैडर दिया जाएगा, ताकि प्रदेश में कहीं भी उनका तबादला हो सके। इन नियमों को बदलने के बाद भर्ती परीक्षा आयोजित होगी।

सूत्रों के मुताबिक पटवारियों को स्टेट कैडर देने के नियम का मसौदा तो तैयार है, लेकिन ट्रेनिंग मॉड्यूल बदलने में कुछ समय लग सकता है। इसके बाद विभाग प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड को भर्ती परीक्षा आयोजित करने के लिए लिखेगा। बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के लिए तीन से चार महीने की मांग करता है। विभाग के अधिकारियों के मुताबिक अभी नियम संशोधन में एक से डेढ़ महीने लग सकता है।
भर्ती के बाद सरकार के पास सिर्फ दो हजार पटवारियों को ट्रेनिंग देने की व्यवस्था है। इस कमी को दूर करने के लिए सरकार अब इंजीनियरिंग कॉलेज सालभर के लिए किराए पर ले कर ट्रेनिंग दी जा सकती है।
माखनलाल चतुर्वेदी युनिवर्स्टी से संचालित कम्प्यूटर सेन्टर संचालको ने भी मुख्यमंत्री जी से मिल कर पटवारी परिक्षा में कम्प्यूटर डिप्लोमा मान्य करने की मांग की संचालित कम्प्यूटर सेन्टर संचालक संघ के अध्यक्ष आर बी पटेल ने बतया की संघ ने मुख्यमंत्री जी के सामने अपनी बात राखी और उन्होंने हमारी बात को गंभीरता से सुना और हमारी मागो पर विचार करने का अस्वासन दिया।

Categories: रोजगार और शासन की योजना

Comments are closed